Get Free Shipping on Mitti Products

if Mitti Products total is

Rs.999 or more

रु999 से अधिक के मिटटी उत्पादों पर पाएं

डाक खर्च फ्री

Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें

Watch Video: How to Cook in Mitti Utensils?

मिटटी के बर्तनो को कैसे प्रयोग करें : देखिए वीडियो

 

1. What are the benefits of cooking in clay pots? / मिटटी के बर्तनो में पकाने और खाने के लाभ क्या है?

The food cooked in the earthenware pots are good for our health. All the important 18 nutrients are available in the food cooked in clay cookware as mentioned in Ayurvedic texts also. Rajiv Dixit bhai also emphasized on on using Mitti ke bartan.

अगर आप खाना मिनरल्‍स, विटामिन्‍स और प्रोटीन के लिए खाती हैं तो आज से ही मिट्टी के बर्तनों में खाना बनाना शुरू करें।

अगर आपको पूरी लाइफ हेल्‍दी रहना हैं तो प्रेशर कुकर की बजाय मिट्टी के हांडी में खाना बनाकर खाना चाहिए। जी हां हमारी बॉडी को रोजाना 18 प्रकार के सूक्षम पोषक तत्वों की जरूरत होती है, जो मिट्टी के बर्तनों में बने खाने से आसानी से मिल जाती है। इन सूक्ष्म पोषक तत्वों में कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, सल्‍फर, आयरन, सिलिकॉन, कोबाल्ट, जिप्सम आदि शामिल होते हैं। वहीं प्रेशर कुकर से बने भोजन में इन सारे पोषक-तत्वों नष्‍ट हो जाते है। इसलिए मिट्टी के ही बर्तन में खाना बनाना चाहिए। आज के समय में बहुत से लोगों को कब्ज की समस्या हो जाती है। आजकल के समय में दिनभर ऑफिस में बैठे रहने से गैस की समस्या हो जाती है, इसलिए आपको मिट्टी के तवे की रोटी खानी चाहिए। अगर आप मिट्टी के तवे की रोटी खाती हैं तो आपको कब्ज की समस्या में राहत मिलती है।

माइक्रो न्यूट्रिएंट्स खत्‍म नहीं होते, स्‍वादिष्‍ट बनता है भोजन, सुंदरता में भी बेजोड़

मिट्टी के बर्तन में बनी दाल और सब्जी में 100 प्रतिशत माइक्रो न्यूट्रीएंट्स रहते हैं जबकि, प्रेशर कुकर में बनी दाल और सब्जी के 87 प्रतिशत पोषक तत्व एल्युमिनियम के पोषक-तत्वों द्वारा अवशोषित कर लिये जाते हैं। इसलिए अब डाइटिशियन और न्यूट्रिशियन भी मिट्टी के बर्तन में खाना बनाने की सलाह देने लगे हैँ। साथ ही मिट्टी के तवे में रोटी बनाने से उसके पौष्टिक तत्व खत्म नहीं होते है। जबकि एल्यूमीनियम के तवे पर रोटी बनाने से उसमें से 87 प्रतिशत पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं।

2. What is earthen cookware? / मिटटी के बर्तन क्या है?

Our Earthen cookwares are made up of different categories of pure natural mitti (soil) which is selected carefully for making different utensils.

खाने एवं पकने हेतु ऐसे बर्तन जो प्राचीन वैज्ञानिक पद्धति द्वारा ध्यान से चुनी हुई शुद्ध प्राकृतिक मिटटी से बनते है।

3. Can we use clay cooking pots on gas? / क्या मिटटी के बर्तन रसोई गैस पर भी प्रयोग कर सकते है?

The earthen cookwares can be used on gas stove as they are designed to withstand heat. Using low to moderate heat produces the best result of the products and can be used for a very long time.

जी हाँ, हमारे द्वारा निर्मित बर्तन आप रसोई गैस पर आसान से प्रयोग करें।  बस इतना ध्यान रखें की नीचे दिए प्रश्न 7 के उत्तर में प्रथम प्रयोग से पहले की विधि एवं सावधानियों का पालन करें

4. Can we store food in clay vessels? / क्या पका हुआ भोजन मिटटी के बर्तन में रख भी सकते है?

Yes, you can store food in clay vessels as the food stored in clay vessels does not contaminate easily.

जी हाँ, मिटटी के बर्तनो में रखा भोजन जल्दी खराब भी नहीं होता अतः निसंकोच उसे मिटटी के बर्तनो में रखें।

5. Does the clay pots smell after washing them? / मिटटी के बर्तनो में अरुचिकर महक आने पर क्या करें?

The health comes at a price so you have to take care to keep it in sunlight twice every week for few hours after washing with hot water.

कुछ दिनों के प्रयोग से अरुचिकर महक आने की सम्भावना हो सकती है अतः सप्ताह में एक या दो बार बर्तनो को गर्म पानी से धोकर धूप में कुछ घंटे रख दीजिये।

6. Can we clean clay pots easily? / क्या मिटटी के बर्तन आसान से साफ़ हो जाते है?

Yes, you can clean clay pots easily. Do not use soap or detergent to clean as the soap will soak into the pores of the clay and then leach into your food the next time you use it. Instead, use scalding hot water and a stiff brush to clean the pot. Baking soda or salt may be used as a cleanser with a scrub sponge.

मिट्टी के बर्तनों को धोना बहुत ही आसान है। इसके लिए आपको कोई केमिकल युक्त साबुन, पाउडर या लिक्विड का इस्तेमाल नहीं करना। आप बर्तनों को केवल गरम पानी से धो सकते हैं। चिकनाई वाले बर्तनों में ज्यादा से ज्यादा आप पानी में नीबू निचोड़ कर डाल दें और बिना साबुन के जूने से हल्का रगड़ दें तो बर्तन बिल्कुल साफ हो जाते हैं।

7. How to use clay pots or cookwares for the first time? / मिटटी के बर्तनो को भोजन बनाने के लिए पहली बार कैसे प्रयोग करें?

 

You can easily use the clay pots for the first time by following some simple steps which are explained below

  • You can start using the claypots as such after washing and soaking in simple water and preferably in boiled rice water called Maand in Hindi for 24 hours.
  • Water Jug, bottle or any clay utensils used to keep water are required to soak for only for one hour.
  • After which allow them to dry properly in preferably under sunlight or under fan for about 5-6 hours.
  • Apply cooking oil on the outer surface and boil water in it on low flame for 2 hours. The utensils are ready to use.
  • Do not heat the utensils empty
  • Use low flame for 10 minutes and the gradually increase to medium flame to cook and increase life of utensils

मिटटी के बर्तन प्रयोग करने से पहले इसे खाना बनाने लायक तैयार करना हैं जिस से आप इसका पूरा लाभ लम्बे समय तक ले सके अतः सबसे पहले नीचे दी गयी प्रक्रिया को अपनाएं।

  • पानी रखने वाले बर्तनो के अतिरिक्त अन्य सभी बर्तनो को सबसे पहले रात भर पानी में डुबोकर रखें व निकाल ले।
  • बर्तनो को अच्छी तरह से धूप में सुखा लीजिये
  • जब यह अच्छे से सूख जाएँ तब इसके बाहर की और चारो तरफ खाना बनाने का तेल लगायें व इसमें पानी भरकर गैस पर मध्यम आंच पर गर्म करें।
  • इसे 2 से 3 घंटे तक गैस की धीमी आंच पर गर्म होने दे व उसके बाद ही इसे खाना बनाने में इस्तेमाल करें।
  • ध्यान रखें की खाली बर्तन को कभी गैस पर गर्म न करें उसमे पानी या तेल होना चाहिए।
  • शुरू मे धीमी आंच पर 10 मिनट और फिर माध्यम आंच पर खाना बनाएं।  तेज़ आंच पर बिलकुल न पकाएं।

8. Do we need to season the clay pots other than cookwares? / क्या भोजन बनाने के बर्तनो के अलावा बर्तनो पर भी उपरोक्त प्रक्रिया करनी होगी?

No, you don’t need to season the clay pots which are not to be used for cooking. Gently clean them and start using them.

नहीं, उन्हें केवल एक घंटे पानी में रखकर आप प्रयोग कर सकते है उपरोक्त प्रक्रिया केवल भोजन पकाने वाले बर्तनो के लिए है।

9. Can I directly visit and purchase the Mitti products from you centre? / क्या यह बर्तन आपके केंद्र से भी ले सकते है?

You are welcome to see samples at our Centre but the items are sent via courier from our warehouse directly.  You can order them online from Gaudhuli.com

आपका हमारे केंद्र पर उत्पादों के सैंपल देखने के लिए स्वागत है परन्तु हम कूरियर द्वारा यह उत्पाद सीधे घर तक भेजते है।  जिसका आर्डर आप हमारी वेबसाइट Gaudhuli.com पर दे सकते है।

10. What if I receive a damaged product? / यदि मिटटी के उत्पाद हमें टूटे हुए प्राप्त हुए तो क्या उपाय है?

If you happen to receive any damaged product we send a replacement for the damaged product once a photograph of the broken items is shared with us.

टूटे हुए उत्पाद मिलने की स्थिति में आपको टूटे हुए उप्ताद की फोटो भेजनी होगी। हम आपके पास वही उत्पाद पुनः भेज देंगे।

11. Is there any season when Mitti utensils should not be used? / किस मौसम में मिटटी के बर्तनो का प्रयोग नहीं करना चाहिए?

Special care should be taken during rainy season. Mitti vessels should not be used for drinking water during rainy season. However, for cooking Mitti utensils can be used in any season without any problem.

वर्षा ऋतु में विशेष ध्यान रखना है की पानी पीने के लिए रखने हेतु मिटटी के बर्तन प्रयोग नहीं करना है परन्तु खाना बनाने के लिए सभी मौसम में मिटटी के बर्तन प्रयोग कर सकते है।

 

Main Menu