कश्यप संहिता में वर्णित अपने बच्चो को दें इम्युनिटी और विलक्षण बुद्धि का आयुर्वेदिक उपहार : "स्वर्णप्राशन"

आरम्भ करने का अगला शुभ

पुष्यनक्षत्र: 14 जून

To know All about

Swarnprashan

  • Neemark Spary / चर्माभिषिञ्चन सुधा / नीमार्क स्प्रे 200 ml

    चोट से खून आना, दाढ़ी के बाद लगाना , फोड़ा, फुंसी आदि में अति लाभदायक

    इसे किसी भी चोंट पर प्राथमिक चिकित्सा हेतु उपयोग कर सकते है|

    It can be used as first aid on any kind of Injury

    1. इसे शरीर के किसी भी हिस्से में स्प्रे कर सकते है
    2. चमड़ी के किसी भी रोग में इसे स्प्रे कर सफाई की जा सकती है
    3. चमड़ी कटा – छटा होने पर थोड़ी जलन होती है
    4. रोगाणुनाशक (antiseptic) के रूप में एक उत्तम उत्पाद है।
    5. भोजन बनाते समय भाप आदि से जलन होने पर तुरन्त लगाएँ तो जलन शांत होती है।
    6. चोट पर नियमित लगाने से चोट अति शीघ्र भरती है।
    100.00

Main Menu