कश्यप संहिता में वर्णित अपने बच्चो को दें इम्युनिटी और विलक्षण बुद्धि का आयुर्वेदिक उपहार : "स्वर्णप्राशन"

आरम्भ करने का अगला शुभ

पुष्यनक्षत्र: 14 जून

To know All about

Swarnprashan

  • Karn Rog Nashini Dropper – कर्ण रोग नाशिनी बूँद

    यह कर्ण के सभी रोगों के लिए लाभकारी है |

    It is beneficial for all kinds of ear diseases.

     

    बाहरी उपयोग में लाने हेतु निर्मित ( कर्ण  )

    Made for external use only (ears)

     

    पंचगव्य बूंद औषध (कर्ण) कान रोग के लिए लाभकारी

    1. इसे दोनों कानों में 1 से 2 बूंद डाल सकते है
    2. एक कान में डालने के बाद 10 मिनट तक उसी करवट में लेटे रहें
    3. इसके बाद ही दूसरी कान में डालें
    4. डालने का उपयुक्त समय सुबह 9 बजे और सायंकाल 4 बजे है
    5. इसे डालने के बाद प्रतिदिन रात्रि में सोने से पूर्व सूती कपडे से कान की सफाई करे
    40.00

Main Menu