Gaudhuli App Coming Soon

स्वर्णप्राशन आरम्भ करने का अगला शुभ

पुष्यनक्षत्र: 08 अगस्त

To know All about

Swarnprashan

Book: पुस्तक: भारत की पहचान – धर्मपाल की दृष्टि में (धर्मपाल -Dharampal))

35.00

In stock

कोई भी समाज अपने स्वत्व में ही अपनी नियति को पहचान और पा सकता है।

ब्रिटिश अधिपत्य और उससे उत्पन्न औपनिवेशिक मानसिकता ने भारत को उसकी आत्मा से विलग करने के प्रभावी प्रयास किये है।

यह भारतीय चित्त की अंतर्निहित ऊर्जा ही है जिसके कारण यह प्रयास पूरी तरह सफल नही हो पाया और

आज भी स्वदेशी व्यवस्थाओं पर देश-समाज को खड़े करने के प्रयास हो रहे है।

Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें
Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें

कोई भी समाज अपने स्वत्व में ही अपनी नियति को पहचान और पा सकता है।

ब्रिटिश अधिपत्य और उससे उत्पन्न औपनिवेशिक मानसिकता ने भारत को उसकी आत्मा से विलग करने के प्रभावी प्रयास किये है।

यह भारतीय चित्त की अंतर्निहित ऊर्जा ही है जिसके कारण यह प्रयास पूरी तरह सफल नही हो पाया और

आज भी स्वदेशी व्यवस्थाओं पर देश-समाज को खड़े करने के प्रयास हो रहे है।

Additional information

Weight 150 g

Customer Reviews

Based on 3 reviews
100%
(3)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
S
Sachin Rana
Best book

True history janane ke liye must read this book

N
Naman Sahu

ये मिला है

S
Srirupa Sengupta
Very good book for those who want to know real history of India

I read this book and it is really worth reading for every Indian.

See It Styled On Instagram

    Instagram did not return any images.

Main Menu

Book: पुस्तक: भारत की पहचान - धर्मपाल की दृष्टि में (धर्मपाल -Dharampal))

35.00

Add to Cart