गोधूली एप्प अब प्ले स्टोर पर उपलब्ध

स्वर्णप्राशन आरम्भ करने का अगला शुभ

पुष्यनक्षत्र: 18 जनवरी

Gaudhuli App

Now on Play Store

Mashtishk Rog Nashini मस्तिष्क रोग नाशिनी (New Refill pack)

150.00

In stock

यह मस्तिष्क से सम्बंधित रोगों के लिए लाभकारी है |

It is beneficial for diseases related to the brain.

बाहरी उपयोग में लाने हेतु निर्मित (नासिका)

Made for external use (as nasal drop)

पंचगव्य बूंद औषध (नासिका) बाहरी उपयोग के लिए बहुउपयोगी, दर्द में इससे मसाज भी कर सकते है

  1. यह घृत में बना है अत: यदि जमा हुवा है तो बोतल को गर्म जल में डूबकर गुनगुना कर लें और पूर्णतः तरल हो जाने पर ही प्रयोग करें
  2. नाक के दोनों छिद्रों (नासिका) में 2 से 3 बूंद डाल सकते है (उपयूक्त समय सुबह 11 बजे और रात्रि शयन से पूर्व है)
  3. मूलाधार में ¼ चम्मच लगा सकते है (उपयुक्त समय प्रातःकाल और सायंकाल मल त्यागने के बाद अंगुली डालकर गुदाद्वार पर अंदर तक लगाए।

Panchgavya ghrit in drop form for nasal is very useful for external use,  if required can also be used for massage for pain

  1. It contains Ghee, do not freeze and if it is frozen due to weather etc. then use warm water to melt it first before using. Only use when it's in pure liquid form.
  2. 2 to 3 drops for both the nostrils (nasal) (the appropriate time is 11 am and before bedtime).
  3. You can apply 1/4 teaspoon at anus (the appropriate time is in the morning and in the evening, after passing stool and use finger to apply inside anus opening.
Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें
Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें

यह मस्तिष्क से सम्बंधित रोगों के लिए लाभकारी है |

It is beneficial for diseases related to the brain.

बाहरी उपयोग में लाने हेतु निर्मित (नासिका)

Made for external use (as nasal drop)

पंचगव्य बूंद औषध (नासिका) बाहरी उपयोग के लिए बहुउपयोगी, दर्द में इससे मसाज भी कर सकते है

  1. यह घृत में बना है अत: यदि जमा हुवा है तो बोतल को गर्म जल में डूबकर गुनगुना कर लें और पूर्णतः तरल हो जाने पर ही प्रयोग करें
  2. नाक के दोनों छिद्रों (नासिका) में 2 से 3 बूंद डाल सकते है (उपयूक्त समय सुबह 11 बजे और रात्रि शयन से पूर्व है)
  3. मूलाधार में ¼ चम्मच लगा सकते है (उपयुक्त समय प्रातःकाल और सायंकाल मल त्यागने के बाद अंगुली डालकर गुदाद्वार पर अंदर तक लगाए।

Panchgavya ghrit in drop form for nasal is very useful for external use,  if required can also be used for massage for pain

  1. It contains Ghee, do not freeze and if it is frozen due to weather etc. then use warm water to melt it first before using. Only use when it’s in pure liquid form.
  2. 2 to 3 drops for both the nostrils (nasal) (the appropriate time is 11 am and before bedtime).
  3. You can apply 1/4 teaspoon at anus (the appropriate time is in the morning and in the evening, after passing stool and use finger to apply inside anus opening.

Additional information

Weight 50 g

Customer Reviews

Based on 10 reviews
100%
(10)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
B
Bittu Peter
got good results

got good results with Mashtishk Rog Nashini.

J
Jay Prakash Yadav
Good product

Very much useful

K
Kartik Chandel
👌👌

Bahut hi badia utpaad.

D
Dileshvar sahu
Nashika

बहुत अच्छा संदार असरकारक उत्पद है आप ने उपलब्ध कराया है धन्यवाद्

A
Anuj Kumar

It's nice product . It is effective in soothing breath related issue and also helpful in providing sound sleep. Lessen the snoring. Remembering habits increases.

See It Styled On Instagram

    Instagram did not return any images.

Main Menu

Mashtishk Rog Nashini मस्तिष्क रोग नाशिनी (New Refill pack)

150.00

Add to Cart