गोधूली एप्प अब प्ले स्टोर पर उपलब्ध

स्वर्णप्राशन आरम्भ करने का अगला शुभ

पुष्यनक्षत्र: 22 दिसंबर

Gaudhuli App

Now on Play Store
  • Calcium Drops – मंत्रौषधि कैल्शियम बूँद – 15 ml

    बाजार के चूने से कई गुना शुद्ध एवं गुणकारी

    गुणधर्म:

    • कैल्शियम की कमी को दूर करें
    • दांतो और हड्डियों को मज़बूत करें
    • नाख़ून की वृद्धि होती है
    • बच्चो और गर्भवती महिलाओ के लिए विशेष रूप से लाभदायक
    • शरीर में अस्थि धातु को संतुलित एवं स्थिर कर दर्द में लाभ करता है
    • इसके निर्माण में गंगाजल का प्रयोग किया गया है जिससे यह कई महीनो तक सुरक्षित रहता है

    शास्त्रोक्त महत्त्व:

    आयुर्वेद में 7 धातुओं में अस्थि नमक एक धातु होती है जिस से हड्डियों का और दांतो का निर्माण होता है।

    अस्थि धातु को पोषण देने के लिए आयुर्वेद में मोती के चूने का महत्त्व बताया गया है जो एक विशेष प्रकार का चूना होता है।

    साधारण चूने से पथरी होने की सम्भावना होती है परन्तु मोती के चूने से वह सम्भावना नहीं है।

    इस उत्पाद में मोती के चूने के साथ प्रवाल भस्म, गोदन्ती भस्म, कपर्दिका भस्म का मिश्रण कर यह ड्रॉप्स बनाई गई है।

    150.00
  • Bal Rakshamrut / बाल रक्षामृत – 125 ml

    इसके सेवन से बच्चो के

    • पेट की तकलीफ
    • कब्ज़
    • गैस
    • कृमि
    • अपचन
    • दांत निकलते समय की तकलीफ

    इत्यादि रोग ठीक होते है  भूख बढ़ती है, पाचन भी अच्छा होता है, जन्म से 15 वर्ष तक के बच्चो के लिए प्रतिदिन सेवनीय ,कोई side effect नहीं

    Bal Rakshamrut is the ayurvedic gripe water mentioned in ayurvedic paediatric literatures written thousands of years back. Bal Rakshamrut is a combination of 10 ayurvedic medicines like Dill Oil, Anisi Oil, Sajikhar, Cuminum Oil,etc.

    100.00
  • Calcium Folic Acid (Veg) Capsules – कैल्शियम एवं फॉलिक एसिड (शाकाहारी) कैप्सूल – 30 Capsules

    कैल्शियम कैप्सूल

    महिला एवं पुरुष सभी के सेवन योग्य

    (महिलाओ के लिए फॉलिक एसिड का भी अच्छा स्त्रोत)

    कैल्शियम की कमी में अत्यंत लाभकारी

    हड्डी एवं दाँतो को मज़बूत करें

    कपर्दिका भस्म
    प्रवाल भस्म
    गोदन्ती भस्म
    संगजराहट भस्म
    मोती का चूना
    अमलकी रसायनं

    सेवन: एक या दो कैप्सूल दिन में तीन बार

    150.00240.00
  • Garbh Poshak Syrup / गर्भ पोषक सिरप – 200ml

    गर्भ पोषक सिरप

    गर्भावस्था में 1 से 9 महीने तक सेवनीय

    मात्रा: प्रतिदिन 2 – 2 चम्मच दिन में तीन बार भोजन के बाद सेवन करें

    जीवंती, शतावरी, शतपुष्पा जैसी गर्भ पोषक औषधियों का क्वाथ करके यह syrup बनाया जाता है । यह Chemical processed शुगर (चीनी) के बदले प्राकृतिक खड़ी शक्कर से बना संभवतः भारत का सर्व प्रथम सिरप है ।

    इस syrup के नियमित सेवन से गर्भ का विकास एवं पोषण होता है एवं गर्भावस्था में होनेवाली विविध समस्याओं से मुक्ति मिलती है । इसका स्वाद अच्छा होने के कारण यह आसानी से लिया जा सकता है । इससे उल्टी इत्यादि की समस्या नहीं होती है

    120.00
  • Garbh Poshak (Veg) Capsule / गर्भ पोषक (शाकाहारी) कैप्सूल – 30 Capsules

    गर्भावस्था में 1 से 9 महीने तक सेवनीय

    नागकेशर, बंगभस्म आमलकी, यष्टिमधु, विहारीकंद, शतावरी,

    *************

    आयुर्वेद में गर्भ और गर्भीणी दोनों का स्वास्थ्य अच्छा रह सके उसके लिए बहुत सारे उपाय बताये गए हैं । आयुर्वेद के ग्रंथो में, प्रतिमाह गर्भावस्था में गर्भ का विकास होता रहे और साथ-साथ गर्भीणी का स्वास्थ्य भी बना रहे इसलिए विभिन्न औषधियाँ बताई गई है, जैसे की शतावरी, विदारीकंद, नागकेसर जैसी औषधियाँ गर्भ का पोषण कारके गर्भस्थ शिशु के सर्व अंगो का विकास करती है और साथ-साथ गर्भीणी को शारीरिक एवं मानसिक शक्ति प्रदान करती है । वर्षों के संशोधन कार्य के बाद चिकित्सा में उपयुक्त “गर्भपोषक कैप्सूल” हमारे संस्कृति गर्भसंस्कार केन्द्र में बहुत लाभप्रद सिद्ध हुई है ।

    यह गर्भावस्था में प्रत्येक महीने में गर्भ का विकास तथा गर्भीणी के स्वास्थ्य का रक्षण करता है ।

    ब्राह्मी, शंखपुष्पी, जटामासी, जैसी औषधियों से गर्भीणी का मन शांत होकर गर्भस्थ शिशु का मानसिक विकास होता है ।

    यष्टिमधु, शतावरी जैसी औषधियों से गर्भीणी तथा गर्भ दोनों को पोषण मिलता है । गर्भावस्था में शक्ति प्रदान करता है, तथा कमजोरी को दूर करता है ।

    नागकेसर गर्भ का पोषण करता है और शक्ति संरक्षण का कार्य करता  है । गर्भावस्था में गर्भस्त्राव तथा गर्भपात होने से बचाता है ।

    अश्वगंधा, विदारी कंद जैसी औषधियाँ शक्ति का संचार करके अशक्ति को दूर करती है ।

    “गर्भपोषक कैप्सूल” गर्भाशय को मजबूत करती हैऔर बार-बार होनेवालें गर्भपात को रोकती है ।

    गर्भावस्था में होनेवालें विकारो या तकलीफों में भी लाभदायी है ।

     

    200.00
  • GarbhPoshak Prashan (With Phal Ghrit) / गर्भ पोषक प्राशनम्  (फल घृत सहित) – 500gm

    गर्भ पोषक प्राशनम्  (फल घृत सहित)

    आयुर्वेद में बताई गई यह विभिन्न औषधियों, जैसे नागकेशर, बंगभस्म आमलकी, यष्टिमधु, विहारीकंद, शतावरी इत्यादि का संयोजन करके विशेष अवलेह बनाया जाता है, जो गर्भवती महिला एवं शिशु दोनों का संरक्षण करता है ।

    गर्भावस्था में 1 से 9 महीने तक सेवनीय

    आयुर्वेद में बताई गई यह विभिन्न औषधियों, जैसे ब्राह्मी, शंखपुष्पी, शतावरी इत्यादि का संयोजन करके विशेष अवलेह बनाया जाता है, जो गर्भवती महिला एवं शिशु दोनों का संरक्षण करता है ।

    Garbh Poshak Prashan: Ayurvedic Immunity Booster for Pregnant Ladies. Only pure Desi Gomata ghee is used in preparing this rasayana, instead of using any fat based ghee.

    500.00
  • Welcome Teeth / दन्त स्वागत – 15ml

    बच्चो के दाँतों का स्वागत करें वेलकम टीथ के साथ

    लाभ: छोटे बच्चो को दांत आते समय होने वाले अतिसार, पेट दर्द, बुखार आदि में लाभकारी

    150.00

Main Menu