Brahma Rasayan Sudha / ब्रह्म रसायन सुधा (48 गुणकारी जड़ीबूटी युक्त) (500ml & 1000ml)

825.001,600.00 (-6%)

In stock

चरक संहिता में वर्णित ब्रह्म रसायन रखे माता-पिता को स्वस्थ

Keeps Parents Healthy

गुणधर्मः
वर्धक – आयु, बल, कांति, स्मरणशक्ति, रोग प्रतिरोधक क्षमता
नाशक – कोष्ठबद्धता, दुर्बलता, खांसी, दमा, क्षयरोग, बलिपलित रोग
एवं अन्य कई रोगों में लाभकारी

Clear
Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें

Description

Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें

 

गुणधर्मः
वर्धक – आयु, बल, कांति, स्मरणशक्ति, रोग प्रतिरोधक क्षमता
नाशक – कोष्ठबद्धता, दुर्बलता, खांसी, दमा, क्षयरोग, बलिपलित रोग
एवं अन्य कई रोगों में लाभकारी

सेवन विधिः
1-1 चम्मच प्रातः व रात्रि में क्रमशः गर्मपानी एवं दूध
के साथ सेवन करें अथवा पञचगव्य चिकित्सक परामर्शानुसार

सावधानीः
गर्भवती स्त्री, अति दुर्बल, मधुमेह रोगी, 12 वर्ष से नीचे की आयु के बच्चे इसका एक चौथाई सेवन करें

Specification

Additional information

Weight 800 g
Quantity

1000ml, 500ml

Customer Reviews

Based on 5 reviews
100%
(5)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
K
KAMALESH THAKRE

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में बहुत अच्छा है
जय गौमाता

Y
Yogesh Pawar
very good product

very good product

V
Vinay
Good Quality

Very good Quality

R
Rohini Priyadarshini
ब्रह्मा रसायन

कहते हैं ब्रह्मा जी का फार्मूला है आयुर्वद की क्लासिकल टॉनिक। नाम ही काफी है बताने के लिए कि अच्छा है और गौधूलि परिवार पर विश्वास है कि उत्पाद की गुणवत्ता वही होगी जो ग्रंथो में लिखी है

R
Rohit Khare
ब्रह्म रसायन सुधा

अच्छा प्रोडक्ट है सबसे अच्छी बात है कि लिमिटिड ही बनता है इससे क्वालिटी अच्छी रहती है, बाकी तो प्रोडक्ट अच्छा है सबको यूज़ करना चाहिए, खास तौर पर बड़े उम्र के लोगो को। गौधूलि परिवार का बहुत बहुत धन्यबाद जो आप लोगो ने ब्रह्म रसायन उपलब्ध कराया नही तो ब्रह्म रसायन के नाम पर बाजार में और अमेज़न जैसे ऐप्प पर पता नही क्या बेचा जा रहा है, 450 रुपये में ब्रह्म रसायन पता नही क्या डालते होंगे, मुझे तो गौधूलि परिवार पर हमेशा से ही भरोसा है और इन्होंने उस भरोसे को कायम भी रखा है। अब ज्यादा न बोलतेहुए, आप का बहुत धन्यबाद।

See It Styled On Instagram

    Instagram did not return any images.

Cart

No products in the cart.