गोधूली एप्प अब प्ले स्टोर पर उपलब्ध

स्वर्णप्राशन आरम्भ करने का अगला शुभ

पुष्यनक्षत्र: 22 दिसंबर

Gaudhuli App

Now on Play Store

मंत्रौषधि स्वर्णप्राशनं / Mantroushadhi Swarnprashanam (प्रतिदिन देने के अनुसार कम से कम 5 आर्डर करें – बार बार मंगवाने के खर्च से बचने हेतु) )

200.00

In stock

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना 
आयुर्वेदिक टीकाकरण – स्वर्णप्राशन*

 

  • बालक की रोगप्रतिकार क्षमता बढती है
  • बालक के शारीरिक विकास में सकारात्मक गति लाता हैबालक के शारीरिक विकास में सकारात्मक गति लाता है
  • यह स्वर्णप्राशन स्मरणशक्ति और धारणशक्ति (grasping ability) बढाने वाले कई महत्वपूर्ण औषध से बना है।
  • पाचनक्षमता बढाता है
  • शारीरिक और मानसिक विकास के कारण वह ज्यादा चपल और बुद्धिमान बनता है।
  • स्वर्णप्राशन मेधा (बुद्धि), अग्नि ( पाचन अग्नि) और बल बढानेवाला है।
  • यह आयुष्यप्रद, कल्याणकारक, पुण्यकारक, वृष्य (पदार्थ जिससे वीर्य और बल बढ़ता है),
  • वर्ण्य (शरीर के वर्ण को तेजस्वी बनाने वाला) और ग्रहपीडा को दूर करनेवाला है
  • स्वर्णप्राशन के नित्य सेवन से मेधायुक्त बनता है श्रुतधर (सुना हुआ सब याद रखनेवाला) बनता है, अर्थात उसकी स्मरणशक्त्ति अतिशय बढती है।
  • Strong immunity Enhancer 
  • Ensures Physical development
  • Memory Booster
  • Makes child positively active and Intellect
  • Increased Digestive Power
Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें
Spread The Word / गुणवत्ता का प्रचार करें

आवश्यक नहीं है परन्तु सुझाव है कि यदि केवल स्वर्णप्राशनं आर्डर कर रहे है तो बार बार मंगवाने का खर्च और प्रतिदिन देने के हिसाब से कम से कम 5 आर्डर करे। 

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना 
आयुर्वेदिक टीकाकरण – स्वर्णप्राशनं*

 

Follow the link to read the complete article

https://www.virendersingh.in/2019/02/swarn.html

· Strong immunity Enhancer :
बालक की रोगप्रतिकार क्षमता बढती है, जिसके कारण अन्य बालको की तुलना वह कम से कम बिमार होता है। इस प्रकार स्वस्थ रहने के कारण उसको एन्टिबायोटिक्स या अन्य दवाईया देने की जरूरत न रहने से हम बचपन से ही इनके दुष्प्रभाव से बचा सकते है।

· Physical development :  स्वर्णप्राशन बालक के शारीरिक विकास में सकारात्मक गति लाता है

· Memory Booster : यह स्वर्णप्राशन स्मरणशक्ति और धारणशक्ति (grasping ability) बढाने वाले कई महत्वपूर्ण औषध से बना है। जिसका अर्थ है कि इसके कारण वह तेजस्वी बनता है।

· Active and Intellect : शारीरिक और मानसिक विकास के कारण वह ज्यादा चपल और बुद्धिमान बनता है।

· Digestive Power : पाचनक्षमता बढाता है जिसके कारण उसको पेट और पाचन संबंधित कोई तकलीफ़ एवं पोषक तत्वों की कभी कमी नही रहती ।

आयुर्वेद के बालरोग के ग्रंथ कश्यप संहिता के पुरस्कर्ता महर्षि कश्यप ने स्वर्णप्राशन के गुणों का निरूपण किया है..

सुवर्णप्राशन हि एतत मेधाग्निबलवर्धनम् ।
आयुष्यं मंगलमं पुण्यं वृष्यं ग्रहापहम् ॥
मासात् परममेधावी क्याधिभिर्न च धृष्यते ।
षडभिर्मासै: श्रुतधर: सुवर्णप्राशनाद् भवेत् ॥
सूत्रस्थानम्, कश्यपसंहिता

 

अर्थात्,
स्वर्णप्राशनंमेधा (बुद्धि), अग्नि ( पाचन अग्नि) और बल बढानेवाला है। यह आयुष्यप्रद, कल्याणकारक, पुण्यकारक, वृष्य (पदार्थ जिससे वीर्य और बल बढ़ता है), वर्ण्य (शरीर के वर्ण को तेजस्वी बनाने वाला) और ग्रहपीडा को दूर करनेवाला है. स्वर्णप्राशन के नित्य सेवन से बालक एक मास में मेधायुक्त बनता है और बालक की भिन्न भिन्न रोगो से रक्षा होती है। वह छह मास में श्रुतधर (सुना हुआ सब याद रखनेवाला) बनता है, अर्थात उसकी स्मरणशक्त्ति अतिशय बढती है।

यह स्वर्णप्राशन पुष्यनक्षत्र में ही उत्तम प्रकार की औषधो के चयन से ही बनता है। पुष्यनक्षत्र में स्वर्ण और औषध पर नक्षत्र का एक विशेष प्रभाव रहता है। स्वर्णप्राशन से रोगप्रतिकार क्षमता बढने के कारण उसको वायरल और बेक्टेरियल इंफेक्शन से बचाया जा सकता है। यह स्मरण शक्ति बढाने के साथ साथ बालक की पाचन शक्ति भी बढाता है जिसके कारण बालक पुष्ट और बलवान बनता है। यह त्वचा को निखारता भी है। इसीलिए अगर किसी बालक को जन्म से 12 साल की आयु तक स्वर्णप्राशन देते है तो वह उत्तम मेधायुक्त बनता है और कोई भी बिमारी उसे जल्दी छू नही सकती।

 

*स्वर्णप्राशन देने की विधि*

यदि जन्म से बच्चे को कोई टीका नही लगवाया है तो जन्म से ही आरम्भ कर सकते है। अन्यथा 6 महीने के बाद प्रतिदिन देना है

यदि बच्चे को बुखार हैं और उसे एलोपैथी की दवाई दी जा रही है तो भी उसे बुख़ार पूरी तरह से उतरने के बाद ही स्वर्णप्राश दें।

मंत्रौषधि स्वर्णप्राशन का नियमित सेवन खाली पेट करना चाहिए । यदि कुछ खाया है तो 15 मिनट बाद सेवन करें। बालक को प्रातः उठाकर स्नान आदि से शुद्ध कर शीशी पर लिखी मात्रा या वैद्य के निर्देशानुसार नीचे दिए गए वेदोक्त मन्त्र का पाठ करके आयु के अनुसार स्वर्णप्राशन का सेवन अधिक लाभकारी होता है।

स्वर्णप्राशन संस्कार का मन्त्र:

ॐ भू: त्वयि दधामि  

ॐ भुवः त्वयि दधामि

ॐ स्वः त्वयि दधामि

ॐ भूः भुवः स्वः त्वयि दधामि 

अर्थात

हे वत्स! तुम्हे  तेज प्राप्त हो 

हे वत्स! तुम्हे  प्रभाव सत्ता प्राप्त हो 

हे वत्स! तुम्हे ओज  प्राप्त हो 

 

प्रतिदिन यह औषधि देने के चमत्कारिक लाभ है:

6 माह से 12 वर्ष तक प्रतिदिन दे सकते है।

ध्यान रहे नीचे दी गई मात्रा प्रतिदिन देने के अनुसार है

1) 6 माह तक के बच्चे को 7 से 15 दिन में 2 बूंद देनी है

2) अन्नप्राशन संस्कार अर्थात 6 माह से 8 वर्ष की आयु तक 3 बूंद से प्रारम्भ कर 5 बूँद तक दे सकते है

3) 8 वर्ष से 12 वर्ष की आयु तक 7 बूँद प्रतिदिन दे सकते है।

किसी कारणवश यदि माह में एक बार पुष्य नक्षत्र पर औषधि देनी है तो

ध्यान रहे नीचे दी गई मात्रा महीने के एक बार के अनुसार है

0 से 6 माह के बच्चे को 3 बूँद
6 माह से 8 वर्ष तक के बच्चे को 5 बूँद
8 से 12 वर्ष की आयु तक के बालक को 7 बूँद
***********

खुराक के अनुसार प्रतिदिन देने के लिए एक शीशी लगभग 15 दिन से एक महीना चलेगी

 

भारतीय संस्कृति के 16 संस्कारो में से एक यहाँ संस्कार की महत्ता को समझकर अपने बच्चो को श्री कृष्ण जैसा तेजस्वी बनाने का प्रण करें, उन्हें स्वर्णप्राशन भेंट करें

 


Products Key Feature(s) : Completely ayurvedic mantraushadhi (the medicine rasayana is made very potent and powerful by using sound energy and cosmic energy which is created by chanting vedic hymns and suktas when the medicine is being prepared), oral drops, available in user friendly and durable packing. This prashan is made as per Kashyap Samhita on auspicious Pushya Nakshatra in pure and sterilized environment while reciting Vedic hymns and Navkara Mantra.

Description

Products Key Ingredients :

Each 10 ml contains:
Shankhpushpi ext. 250 mg,
Pippli 50 mg,
Jatamansi 50 mg,
Vaj ext. 100 mg,
Brahmi ext. 200 mg,
Panch Gavya Ghrit 10 mg,
Honey 9 ml.

Shastrokt (Vedic) Importance : Suvarnaprashan improves the immunity of children as well as their cognizance. It improves agility in children and remedies hyper-activeness.

Relevant and Reference :

सुवर्णप्राशनं ह्येतन्मेधाग्निबलवर्धनम्। आयुष्यं मङ्गलं पुण्यं वृष्यं वर्ण्यं ग्रहापहम् ॥

मासात् परममेधावी व्याधिभिर्न च धृष्यते। षड्भिर्मासैः श्रुतधरः सुवर्णप्राशनाद्भवेत् ॥

Ayurved Vidhan: Kashyap Samhita / Sutrasthanam

Why to Consume : It improves intelligence, cognition, ‘Medha’ and immunity in children! Prevents viral infections. It improves the vital energy in a child and the child becomes full of positive excitement (Harsha). It remedies irritation, lack of sleep and anger in children.

Who Can Consume : All children from age group 6 months to 15 years

Additional information

Weight 60 g

Customer Reviews

Based on 84 reviews
96%
(81)
2%
(2)
0%
(0)
0%
(0)
1%
(1)
U
Uttam godase
Contents

Where is a suvarna content in product ?

M
Manju Mehra

Really good product.

P
Prasad Pawar
Good products but high courier charges

There is no doubt about the products as they are excellent in quality.
I have ordered Suvarnaprashan, Amritprashan and Balpal Ras.

But only concern is that the postage charges are considerably very high.When you are packing all the items in same box, then why the postage charges increase for each additional product? I wanted to add more products in my order but only due to very high postage charges, i skipped them. The box which i received from courier was filled with unnecessary thick cardboard pieces (may be to fill the empty spaces of outer box) which increase the weight of my overall order box. In stead of those pieces, one or two more bottles of Suvarnaprashan or Amrutprashan could have been accomodated in same weight criterion.

Its a request to please optimise the outer box packing space and weight in order to get dilivered in same postage charges.

Anyways, nowadays majority of online shopping sites are providing free postage charges or bare minimum of 20-40 Rs only. So why cant Gaodhuli products get dilivered in minimum postage charges?? Your postage charges are sometimes more than the price of product itself.
Please look into this.

Namaste,
Thank you for you feedback. We would like to take this opportunity to make everyone understand that the popular online websites are backed by huge capital and turnover. they have billions of dollors to enable them to establish warehouses in almost all major ciites in India. Due to which they can ship at very minimum cost. However, we try and give free shipping with 2 litres of ghee and order beyond a specific amount.

Gaudhuli was started to provide best quality handmade products which we have maintained till date. The average review rating of 4.9 is the proof.

Right now as well end paying the shipping charges from our pocket.

Hence, in future if we are able to make warehouses in major cities provided the quality is not compromised then we will definitely try to lower the shipping charges.

Dhanyawaad

R
Rakesh Gupta
Soap

Best ever soap used,totally chamical free, best option for nature lovers.

R
Ramesh Hirade

Best product ever for baby👌

See It Styled On Instagram

    Instagram did not return any images.

Main Menu

मंत्रौषधि स्वर्णप्राशनं / Mantroushadhi Swarnprashanam (प्रतिदिन देने के अनुसार कम से कम 5 आर्डर करें - बार बार मंगवाने के खर्च से बचने हेतु) )

200.00

Add to Cart